क्या आपने सुने हैं गणेश (Ganesh) जी के ये 5 रोचक किस्से?

गणेश (Ganesh) जी को लेकर कई कहानियाँ प्रचलित हैं. हम बचपन से ही गणेश जी के बारे में जानते आए हैं. लेकिन अभी भी कई चीजें ऐसी हैं जो हमें नहीं पता. गणेश चतुर्थी के दिन हम आपको गणेश की के बारे में ऐसे ही कुछ अनजान कहानियाँ बताएँगे.

0
407
क्या आपने सुने हैं गणेश (Ganesh) जी के ये 5 रोचक किस्से?

गणेश (Ganesh) जी को लेकर कई कहानियाँ प्रचलित हैं. हम बचपन से ही गणेश जी के बारे में जानते आए हैं. लेकिन अभी भी कई चीजें ऐसी हैं जो हमें नहीं पता. गणेश चतुर्थी के दिन हम आपको गणेश की के बारे में ऐसे ही कुछ अनजान कहानियाँ बताएँगे.

1. जब गणेश (Ganesh) जी ने चलाया चक्कर

क्या आपने सुने हैं गणेश (Ganesh) जी के ये 5 रोचक किस्से?

गणेश (Ganesh) जी की ये कहानी तो बहुत ही मशहूर है. दरअसल बात ये थी कि किसी बात पर गणेश जी और कार्तिकेय जी के बीच अपनी श्रेष्ठता साबित करने की बहस हो गई. बात बढ़ते-बढ़ते शंकर जी और पार्वतीजी के पास पहुँच गई. इसके बाद तय हुआ कि जो सम्पूर्ण पृथ्वी के तीन चक्कर सबसे पहले लगा के आएगा उसे ही सबसे श्रेष्ठ माना जाएगा. फिर क्या था दोनों भाई अपने-अपने वाहन पर सवार होकर निकल पड़े चक्कर लगाने.

तब गणेश जी को लगा कि वो तो हार जायेंगे क्योंकि चूहा और मोर में मुकाबला तो मोर ही जीतेगा न. तब उन्होंने शिव-पार्वती के चारों तरफ तीन बार घूम कर वहीं रुक गए. जब वहां कार्तिकेय जी आए तो जीत की मुस्कान के साथ आए. लेकिन उन्होंने ये कहकर कि माता-पीता ही तो उनके संसार हैं, माता-पीता का दिल जीता लिया. जाहिर है कि शर्त भी उन्होंने ही जीता.

2. पेटू गणेश जी

खाने-पिने के मामले में गणेश जी माहिर आदमी थे. एक बार की बात है कुबेर ने शंकर जी को खाने का निमंत्रण भेजा. लेकिन इत्तेफाक से शंकर जी नहीं जा सके तो इनके बदले गणेश जी ही गए. और गए तो क्या गए ग़दर ही कर दिया. सारा खाना ख़त्म हो गया कुबेर का घमंड चूर हो गया लेकिन तभी शंकर जी आये और एक छोटे से बर्तन में थोड़ा सा अन्न दिया और उनका पेट भर गया.

3. मोदक प्रेम के शिकार हुए चंदा मामा

बात खाने की हो रही है तो इससे जुडी एक और कहानी है. जब उन्होंने इतने ज्यादा मोदक खा लिया कि सड़क पर चलते हुए गिर पड़े. तभी चंदा माम को हंसी आ गई और उनकी इस गलती की उन्हें भरी कीमत चुकानी पड़ी. इसके लिए उन्हें गणेश जी का श्राप मिला कि गणेश चतुर्थी के दिन चाँद देखने वाले पर झूठा आरोप लग जाएगा. लेकिन बाद में माफ़ी माँगने पर उन्होंने कहा कि उस व्यक्ति का आरोप पूर्णिमा के दिन चाँद देखने से हट जाएगा.

4. जब पीता ने ही काट दिया सिर

क्या आपने सुने हैं गणेश (Ganesh) जी के ये 5 रोचक किस्से?

अब वो कहानी जिसके कारण आदमी जैसे धड़ वाले गणेश जी का सर हाथी जैसा है. बात ये थी कि माँ पार्वती स्नान कर रहीं थीं और गणेश जी को पहरेदारी पर लगाया ताकि कोई अंदर न आने पाए. तभी भगवान शंकर आते हैं और अंदर जाने को लेकर दोनों के बीच पहले कहासुनी होने के बाद बात इतनी बढ़ जाती है कि शंकर जी ने उनकी गर्दन ही काट डाली. फिर पार्वतीजी के कहने पर उन्होंने पृथ्वी से एक हथनी के बच्चे का सर काट कर लगाया. और इस तरह उनकी गर्दन हाथी वाला हो गया.

5. कैसे पड़ा गणेश जी का नाम एकदंत

आरती में आपने भी गाया होगा कि ‘एकदंत दयावंत चार भुजा धारी’ तो आखिर ये एकदंत बने कैसे? ये आपको हम बताते हैं. बात ये है कि वेदव्यास ने महाभारत लिखने के लिए गणेश जी के पास गए. लेकिन लिखने की बात इस शर्त पर हुई कि वेदव्यास जी को बिना रुके लगातार बोलना है और गणेश जी को हर बात समझने के बाद ही लिखनी है. तो काम शुरू हो गया. लेकिन एक बार लिखते हुए उनकी कलम टूट गई. अब चूँकि वो रुक नहीं सकते थे इसलिए गणेश जी ने अपना दांत तोड़कर ही लिखना शुरू कर दिया. तब से उनका एक ही दांत है.

LEAVE A REPLY