शिक्षक दिवस (Teachers Day) पर 5 तरीके अपनाकर बनें अपने बच्चे का शिक्षक

शिक्षक दिवस (Teachers Day) आम तौर पर स्कूलों में ही मनाते हैं. लेकिन शिक्षा की प्रथम पाठशाला घर ही होता है. इसलिए गार्जियन भी गुरु की तरह या स्पष्ट कहें तो गुरु ही होता है. इसलिए कोशिश ये रहनी चाहिए कि अपने बच्चे रूपी शिष्य का प्रिय शिक्षक बन जाएं. लेकिन ये होगा कैसे? इसके लिए इन 5 बातों पर गौर फरमाएं

0
381
शिक्षक दिवस (Teachers Day) पर 5 तरीके अपनाकर बनें अपने बच्चे का शिक्षक

शिक्षक दिवस (Teachers Day) आम तौर पर स्कूलों में ही मनाते हैं. लेकिन शिक्षा की प्रथम पाठशाला घर ही होता है. इसलिए गार्जियन भी गुरु की तरह या स्पष्ट कहें तो गुरु ही होता है. इसलिए कोशिश ये रहनी चाहिए कि अपने बच्चे रूपी शिष्य का प्रिय शिक्षक बन जाएं. लेकिन ये होगा कैसे? इसके लिए इन 5 बातों पर गौर फरमाएं –

शिक्षक दिवस (Teachers Day) पर 5 तरीके अपनाकर बनें अपने बच्चे का शिक्षक

1. Teachers Day पर करें दोस्ती

आप ध्यान देंगे तो पाएंगे कि बच्चे सबसे ज्यादा बातचीत अपने दोस्तों से ही करते हैं. अपनी सारी योजनाएँ एकदूसरे को बताते हैं. तो इसलिए यदि आप चाहते हैं कि आप अपने बच्चे की सभी बातें बिना किसी दबाव के जानें तो सबसे बढ़िया तरीका है कि आप उनसे दोस्ती करें. इससे आपको अपनी ज़िम्मेदारी का एहसास भी होगा और अपने बच्चे को गलत संगति से भी बचा पाएंगे.

2. मनोबल बढ़ाते रहें

अब जब आप अपने बच्चों के दोस्त बन जाएँगे तो आपसी संवाद कायम हो जाएगा. यदि आप इस समबंध को अगले लेवल पर ले जाना चाहते हैं तो बस आपको उनका मनोबल बढ़ाते रहना है. गलत करने पर समझाएँ जरूर लेकिन सही काम करने पर उन्हें कुछ उपहार देकर आप उनका दिल जीत सकते हैं. इससे आप उनकी स्कूल की गतिविधियों को भी बिना किसी अतिरिक्त प्रयास के जान जाएँगे.

3. समझें मन की बात

जब आप उपरोक्त दोनों बातों का अनुसरण कर लेंगे तो आप पाएंगे कि आप अपने बच्चे के मन की ज़्यादातर बातें पहले ही जान जाएँगे. इससे आप अपने बच्चे का विश्वासपात्र तो बनेंगे ही उनका प्यार भी आपके प्रति बढ़ जाएगा. इसलिए अपने बच्चे की रुचि को प्रोत्साहित करने के साथ साथ उससे क्लोज रिलेशन बनाए रखें.

4. पर्याप्त समय दें

शिक्षक दिवस (Teachers Day) पर 5 तरीके अपनाकर बनें अपने बच्चे का शिक्षक

बच्चों के साथ सिर्फ समय बिताना ही उचित नहीं है बल्कि क्वालिटी टाइम देना ज्यादा महत्वपूर्ण है. आप जितना ज्यादा क्वालिटी टाइम देंगे बच्चों के लिए उतना ही अच्छा रहेगा. ऐसा करके आप उन्हें सही तरीके से निर्देशित भी कर सकते हैं. उनकी अच्छाइयाँ बुराइयाँ भी आपको पता चलेंगी.

5. दोष पहचानें और दूर करें

बच्चे किसी भी चीज को तुरंत सीख लेते हैं. इसलिए बेहतर रहेगा कि उन्हें प्रत्येक बात व्यवहारिक रूप से ही बताएं. लेकिन जहां भी गलत लगे उसे तुरंत बात करके समाधान करें. कभी भी समस्याओं को नजरंदाज़ करने से बचें. वर्ना आगे चलकर बहुत परेशानी हो सकती है.

LEAVE A REPLY