रैनसमवेयर वानाक्राई (Wannacry) से जुड़े आपके सभी सवालों के जवाब यहाँ मिलेंगे

इस समय रैनसमवेयर वानाक्राई (Wannacry) को लेकर पूरी दुनिया में अफरा-तफरी का माहौल है. खबरों के अनुसार 150 देशों के 2 लाख से ज्यादा कंप्यूटर इसके शिकार बने हैं. सभी लोग चिंतित हैं इसके बारे में जानना चाहते हैं तो इसलिए हम लाए हैं आपके सभी सवालों के जवाब.

99
Loading...

-------------------------------------------------------------

इस समय रैनसमवेयर वानाक्राई (Wannacry) को लेकर पूरी दुनिया में अफरा-तफरी का माहौल है. जब भी साइबर हमले होते हैं, सुरक्षा कोलेकर सवाल उठने लगते हैं. खबरों के अनुसार 150 देशों के 2 लाख से ज्यादा कंप्यूटर इसके शिकार बने हैं. सभी लोग चिंतित हैं इसके बारे में जानना चाहते हैं तो इसलिए हम लाए हैं आपके सभी सवालों के जवाब.

1. रैनसमवेयर वानाक्राई (Wannacry) है क्या?

दरअसल ये एक वायरस का नाम है. अब कंप्यूटर की दुनिया के नाम तो ऐसे ही टेढ़े-मेढ़े होते हैं. इसकी खासियत है कि एक बार नेटवर्क में आ जाने पर ये खुद ही अपने शिकार की तलाश करता है और जैसे ही ये आपके कंप्यूटर में सक्रीय होता है, आपका कंप्यूटर लॉक कर देता है. इसके बाद अनलॉक करने के लिए फिरौती की मांग करता है. लेकिन रकम आपकेवल बिटकॉयन के रूप में ही दे सकते हैं.

रैनसमवेयर वानाक्राई (Wannacry) से जुड़े आपके सभी सवालों के जवाब यहाँ मिलेंगे

2. कौन कौन बना है शिकार?

इसके ज्यादातर शिकार यूरोपीय देशों के कंप्यूटर बन रहे हैं. खबरों के अनुसार अब तक 2 लाख से ज्यादा कंप्यूटर इसके शिकार बन चुके हैं. एशिया में इसका असर चीन, जापान और कोरिया आदि देशों में भी हुआ है. चीन में अधिकारिक बयान जारी कर कहा गया है कि करीब 40 हजार कंप्यूटर इसके चपेट में हैं.

3. कौन कौन बचा हुआ है?

रैनसमवेयर वानाक्राई (Wannacry) के प्रभाव से अब तक विंडो एक्सपी वाले कंप्यूटर बचे हुए हैं. जाहिर है विंडो एक्सपी को अब माइक्रोसॉफ्ट समर्थन नहीं देती है. यानी अपडेट्स नहीं मिलते हैं. लेकिन जो भी हो इतना तो कीजिए ही कि एक्सपी का इस्तेमाल जितना जल्दी हो सके बंद कर दीजिए.

4. एप्पल और एंड्राएड वालों का क्या?

रैनसमवेयर वानाक्राई (Wannacry) से जुड़े आपके सभी सवालों के जवाब यहाँ मिलेंगे

एप्पल समर्थित कोई भी कंप्यूटर अभी तक इसकी चपेट में नहीं आया है. हालांकि आईफोन के बारे में ऐसा दावा नहीं किया आ सकता. लेकिन एंड्राइड वालों को सावधान रहने की जरुरत है. क्योंकि ज्यादातर एंड्राइड मोबाइल्स पुराने ऑपरेटिंग सिस्टम पर चलते हैं.

5. इससे बचना कैसे है?

सबसे पहले तो अपने कंप्यूटर या डिवाइस के सभी डाटा का बैकप लें. इसके बाद अपने डिवाइस को अपडेट करें. इससे आप निश्चिन्त रहते हैं. जो भी सेवाएं हैं उसके लिए पासवर्ड का इस्तेमाल करें. ईमेल चेक करते समय सावधानी बरतें.

LEAVE A REPLY